तस्वीर अमेरिका के मैनहट्‌टन की है। यहां रेस्टोरेंट्स और होटल तो खुल हुए हैं। लेकिन लोग कोरोनावायरस के डर बाहर खाने के लिए कम ही निकल रहे हैं।

In the midst of an epidemic, spend time outside with friends rather than at home, keep 6 feet between two chairs; Guests use masks all the time | महामारी के बीच दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ घर के बजाए बाहर वक्त बिताना ज्यादा सुरक्षित, लेकिन एक्सपर्ट्स की सलाह- 5 बातों का ध्यान जरूर रखें

  • किसी पार्टी में खुद ही खाने-पीने का सामान ले जाएं, मास्क और सैनिटाइजर भी रखें
  • रेस्टोरेंट्स या होटल में पार्टी के लिए जाएं तो 2 कुर्सियों के बीच 6 फीट की दूरी रखें

दैनिक भास्कर

Jun 09, 2020, 01:29 PM IST

जैनिफर स्टाइनहार. देश अनलॉक हो गया है। मॉल, रेस्टोरेंट्स, होटल खुलने लगे हैं। ऐसे में बहुत से लोग दोस्तों के पार्टी का भी आइडिया बना रहे हैं। एक्सपर्ट्स भी दोस्तों और करीबियों के साथ घर में बैठकर डिनर या पार्टी करने को सही आइडिया नहीं मानते। रेस्टोरेंट्स और होटलों में भी पार्टी करना अभी बिल्कुल सुरक्षित नहीं है। ऐसे में लॉन या पार्क में पार्टी करना ही एकमात्र विकल्प बचता है। इन हालातों में ध्यान से की गई प्लानिंग, सतर्क दिमाग, क्रिएटिव डिजाइन और कम लोगों के साथ छोटी-मोटी पार्टी सुरक्षित तरीके से की जा सकती है।

एक्सपर्ट्स से समझें बाहर जाने की बुनियादी गाइडलाइंस-

पार्क या रेस्टोरेंट्स में जाना ज्यादा सुरक्षित-

  • डार्टमाउथ कॉलेज में हेल्थ पॉलिसी रिसर्चर और क्लीनिकल प्रोफेसर लिंडसे लीनिंगर बाहर पार्टी करने को बेहतर मानती हैं। कहती हैं कि हम जानते हैं कि घर के अंदर गैदरिंग करने से हमेशा जोखिम रहता है। भले ही मेहमान कम हों। जबकि पार्क या रेस्टोरेंट में जाकर खाना ज्यादा सुरक्षित हो सकता है। क्योंकि वहां आप इस बात का नियंत्रण कर सकते हैं कि कौन प्लेट्स को छुएगा और टेबल सेट करेगा। 

दूरी का ध्यान, मास्क का ख्याल रखें-

  • यदि आप किसी बड़े ग्रुप के साथ बाहर निकलने का प्लान कर रहे हैं तो साथ में नापने वाला टेप रखें। दो कुर्सियों के बीच 6 फीट की दूरी सुनिश्चित करें। इनके बीच में टेबल न लगाएं।
  • अगर आपके पास बाहर कई टेबल लगाने जितनी जगह है, तो उन्हें इस तरह से लगाएं कि साथ रहने वाले साथ बैठ सकें। हर ग्रुप की जगह को किसी चीज से मार्क करें।
  • जेडीसी ईवेंट्स की चीफ एग्जीक्यूटिव जैनिफर कॉलिन्स कहते हैं कि मार्किंग इसलिए करें, ताकि अलगाव दिख सके और डिस्टेंसिंग मेनेटेन हो।
  • कॉलिन्स एक डस्टबिन रखने की सलाह देते हैं, ताकि कचरे को सही जगह फेंक सकें। इससे होस्ट को गेस्ट की चीजें छूने की जरूरत नहीं पड़ेगी। गेस्ट को खाने के अलावा हर वक्त मास्क पहनना चाहिए।
  • कॉलिन्स कहते हैं कि मेहमानों के पास एक्सट्रा मास्क जरूर होना चाहिए। अगर कोई मास्क लाना भूल गया है तो आप उनकी मदद करें। बिना मास्क पहनें आपस में बातचीत न करें।

सामान खुद का लेकर जाएं, सैनिटाइजर भी रखें-

  • एक्सपर्ट्स कहते हैं कि बाहरी पार्टी में अपना खुद का खाना, प्लेट, ड्रिंक्स लेकर जाएं। कॉलिन्स के अनुसार, साथ ले जाने वाली इन चीजों में मसालों को भी शामिल करना चाहिए। हर टेबल पर सैनिटाइजर रखना भी अच्छा रहेगा। संभव है कि एक होस्ट के तौर पर आपको यह अच्छा न लगे, लेकिन गेस्ट इसे वक्त की जरूत मानकर स्वीकार कर लेंगे। 

एक बार में केवल एक ही लोग बाथरूम में जाएं-

  • लीनिंगर के मुताबिक बाथरूम को लेकर आपको ज्यादा चिंतित होने की जरूरत नहीं है, बस थोड़ा सा ध्यान रखें। एक बार में केवल एक ही व्यक्ति को बाथरूम में जाने दें। उन्हें मास्क पहनने के लिए और हाथ धुलने के जरूर बोलें।
  • एक होस्ट के तौर पर आप हाथ धुलवाने को बढ़ावा देने के लिए जो भी कर सकते हैं, करें। यह समय पंप सोप और आकर्षक टॉवेल खरीदने का है। टिश्यू पेपर भी रखें और मेहमानों से वापस लाकर दोबारा कचरे में फेंकने के लिए कहें।
  • एक्सपर्ट्स कहते हैं कि यह काम परेशान करने वाला हो सकता है, लेकिन कोविड-19 एक सांस से संबंधित बीमारी है। इसका मतलब यह ज्यादातर सतह के बजाए हवा के सहारे फैलती है। इसलिए बाथरूम की सतह को डिसइंफेक्ट से साफ करें। 

यह जानें कि सबसे कम लोग सबसे बेहतर हैं-

  • भीड़ को लेकर सरकार की गाइडलाइंस का पालन करें, लेकिन यह जानें कि सबसे कम लोग सबसे बेहतर हैं। जॉन्स हॉप्किंस ब्लूमबर्ग स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के डिपार्टमेंट ऑफ एपिडेमियोलॉजी और डिपार्टमेंट और एनवायरमेंटल हेल्थ की एसोसिएट प्रोफेसर जेनिफर नुजो के मुताबिक, यह पता नहीं होना कि दूसरे लोग बाहर कितने लोगों से मिल रहे हैं, यह सबसे ज्यादा जोखिम भरा है।
  • नुजो कहते हैं कि बच्चों को दूर रखना काफी मुश्किल है। इसलिए अगर आप बच्चों को अपने साथ शामिल कर रहे हैं तो आयोजन पार्क में करें। इस दौरान बेसबॉल और किकबॉल जैसी एक्टिविटीज करें, ताकि सोशल डिस्टेंसिंग को बनाकर रखा जा सके। 
  • यह याद रखें कि साथ आने और सोशल डिस्टेंसिंग को लेकर सभी की सोच एक जैसी नहीं होती। डॉक्टर मार्सलिन कहते हैं कि जोखिम के प्रति सभी का ध्यान एक जैसा नहीं होता है। इसलिए दोस्त के साथ बाइक पर घूमना किसी के लिए सही होता है, तो किसी के लिए नहीं। लेकिन, केवल आपस में फर्क होना आपको किसी की निंदा करने का लाइसेंस नहीं देता है। 

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *