Easy ways to avoid virus transmission inside the room – open the window, the air inside is more dangerous than outside | कमरे के अंदर भी कोरोना का ट्रांसमिशन संभव, इससे बचने के हैं आसान उपाय, जानिए कैसे घर में लाएं ताजी हवा

38 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
  • कमरे में लगे एसी का प्रकार जानें, कुछ बाहर की हवा को ठंडा करते हैं तो कुछ इंडोर एयर को रीसर्कुलेट करते हैं
  • एक्सपर्ट्स के मुताबिक, अगर आप कमरे में सुरक्षित जगह का पता नहीं लगा पा रहे हैं तो बेहतर है वहां ज्यादा न रुकें

हीदर मर्फी. हवा हमारे जीवन के लिए बेहद जरूरी है, लेकिन हमें कभी भी इसे पाने के लिए मेहनत नहीं करनी पड़ती। उदाहरण के लिए पानी जरूरी है पर पीने के लिए पहले इसे भरना होता है, जबकि हवा खुले माहौल में अपने आप ही हम तक पहुंच जाती है। हालांकि अब वो वक्त नहीं रहा जब आप हवा को लेकर निश्चिंत रहें। अब दुनिया कोरोनावायरस की जद में है और कई वैज्ञानिक इस बात को मान रहे हैं कि घर के अंदर हवा में वायरस का ट्रांसमिशन हो सकता है। इसके अलावा खराब वेंटिलेशन सिस्टम भी बड़ा खतरा बन सकता है।

हालात कुछ भी हों, हर किसी के पास इतनी ताकत और रिसोर्सेज नहीं होते कि वे अपनी एयर सर्कुलेशन सुधार सकें। हालांकि साइंटिस्ट्स और इंजीनियर्स का कहना है कि एयर फ्लो की मूल बातों को समझना भी मददगार हो सकता है। इसके अलावा सुरक्षित रहने का यह एक अच्छा तरीका हो सकता है।

दुविधा हो तो खिडकियां खोलें-
(याद रखें बाहर की हवा अच्छी होती है।)

  • वैज्ञानिक इस बात की जांच में लगे हुए हैं कि जब एक संक्रमित व्यक्ति बात करता है, सांस अंदर लेता है, गाना गाता है या कुछ खाता है तो वायरस पार्टिकल्स रूम में घूमते हैं। पहले की गईं स्टडीज बताती हैं कि ऐसा होना थोड़ा मुश्किल है। हालांकि, साइंटिस्ट्स और इंजीनियर्स के आसान सलाह पर सहमति जताते हैं। उनके अनुसार, जितनी ज्यादा बाहर की हवा अंदर आएगी उतना ही कमरे के अंदर शायद हवा में तैर पर वायरस पार्टिकल्स को हटाने में मदद मिलेगी। इसके अलावा बाहर की हवा को अंदर लाने का यह सबसे भरोसेमंद और कम खर्चीला तरीका है।
  • कोलोराडो बोल्डर यूनिवर्सिटी में मैकेनिकल इंजीनियरिंग की प्रोफेसर शैली मिलर कहती हैं “अगर आप नहीं जानते कि इस जगह पर वेंटिलेशन सही है या नहीं, लेकिन आप खिड़की खोल सकते हैं। मैं ऐसा ही करूंगी।” कोलोराडो बोल्डर यूनिवर्सिटी में एयरोसोल साइंटिस्ट जोस-लुइस जिमेनेज के मुताबिक, बाहर की हवा अंदर की हवा को बदल देती है। उन्होंने कहा “आपके पास जितनी ज्यादा बाहर की हवा होगी, आप उतना ही वायरस को कमजोर करेंगे।”
  • कमरे के अंदर की हवा को बाहर निकालने और बाहर की हवा को अंदर लाने में पंखा आपकी मदद कर सकता है। डॉक्टर जिमेनेज ने कहा कि अगर आप कमरे में बाहर की हवा की रफ्तार को बढ़ाना चाहते हैं। एक बॉक्स फैन लें और उसे खिड़की पर रखकर, बाहर की तरफ चला दें। जितनी भी हवा एक जगह से जाती तो उतनी ही हवा वापस भी आती है। यह एक फिक्स्ड वॉल्यूम है।

यह जानना जरूरी है कि एयर-कंडीशनर किस तरह का है
(कुछ आउटडोर एयर को अंदर खींचते हैं, कुछ केवल इंडोर एयर को रीसर्कुलेट कर देते हैं।)
कोई भी आपको एसी का उपयोग बंद करने के लिए नहीं कह रहा है। यह बाहर की तेज गर्मी में आपको काफी मदद पहुंचाता है और हीट स्ट्रोक से बचाता है। अब अगर आप दूसरे लोगों के साथ किसी ठंडी जगह पर वक्त बिता रहे हैं तो ठंडी हवा के बारे में जानकारी रखना जरूरी है। आमतौर पर एंयर-कंडीशनिंग की तीन कैटेगरी होती हैं।

  1. एक यूनिट जो इंडोर और आउटडोर दोनों की हवा को ठंडा करता है।
  2. एक यूनिट जो केवल इंडोर एयर को री सर्कुलेट करता है।
  3. एक यूनिट जो पूरी तरह बाहर की हवा खींचने पर निर्भर करता है।

बाहर और अंदर की हवा को एडजस्ट करें

  • आमतौर पर ऑफिस बिल्डिंग्स में मिलने वाले सेंट्रलाइज्ड एयर सिस्टम्स पहली कैटेगरी में आते हैं। डॉक्टर जिमेनेज और दूसरे बिल्डिंग साइंटिस्ट पहली कैटेगरी की कूलिंग में शामिल बिल्डिंग और ऑफिस के मालिकों को बाहर की हवा का अनुपात एडजस्ट करने की सलाह दे रहे हैं। हालांकि यह काफी महंगा होगा।
  • लास वेगास के कैसीनो की बात करें तो यहां अंदर शामिल लोग ठंडक महसूस कर रहे हैं, जबकि बाहर पारा 120 डिग्री फैरेनहाइट है। पहले से ही ठंडी अंदर की हवा को रि सर्कुलेट करने की तुलना में बाहर की हवा को ठंडा करना ज्यादा महंगा होगा। डॉक्टर जिमेनेज ने कहा कि ग्राहकों का स्वास्थ्य भी प्राथमिकता है। उन्होंने बताया कि कई लोग इस बारे में सोच रहे हैं।
  • ज्यादातर विंडो यूनिट के सामने का हिस्सा अंदर की तरफ सेट होते हैं। इस तरह के यूनिट दूसरी कैटेगरी में होते हैं। पेन स्टेट की इंस्टीट्यूट ऑफ एनर्जी एंड द एनवायरमेंट में आर्किटेक्चरल इंजीनियरिंग के प्रोफेसर विलियम बेनफ्लेथ ने कहा कि यह यूनिट बाहर की हवा को खींचने के बजाए रूम के बाहर से आने वाली हीट को डंप करते हैं।
  • डॉक्टर जिमेनेज के अनुसार, अगर आप अकेले या उन लोगों के साथ रह रहे हैं जो संक्रमित नहीं है तो यह यूनिट ठीक हैं। अगर आप डिनर पार्टी का सोच रहे हैं या घर का बच्चा बार-बार बाहर जाता है तो यह याद रखें कि मौजूद वायरस अंदर की हवा में मिक्स हो सकता है। अगर आपके घर पर कई लोग आए हैं तो खिड़कियां खोल लें या सबसे बेहतर बाहर चले जाएं।

सभी फिल्टर्स एक जैसे नहीं होते
(एक अच्छा फिल्टर बाहर की हवा खींचने जितना असरदार भी हो सकता है।)

  • अगर आपका यूनिट केवल अंदर की हवा को रि सर्कुलेट कर रहा है और आप खिडकियां नहीं खोल सकते तो क्या करेंगे। इन हालात में फिल्टर काम करता है। हारवर्ड मेडिकल स्कूल में प्रोफेसर डॉक्टर एडवर्ड ओ नार्डेल कहते हैं कि एक अच्छा फिल्टर बाहर की हवा खींचने जितना असरदार भी हो सकता है। धूल-बदबू, तंबाकू का धुंआ और कैमिकल हटाने के अलावा फिल्टर्स हवा से वायरल पार्टिकल्स भी हटा देते हैं। कुछ फिल्टर्स सीधे एसी यूनिट्स और सेंट्रल एयर सिस्टम्स में लगाए जाते हैं। MERV और HEPA दो सर्टिफाइड तरह के हैं और ज्यादा उपयोग में लाए जाते हैं।
  • MERV फिल्टर्स की रेटिंग इस बात से पता की जाती है कि वे एक तय रेंज में कितनी कुशलता से पार्टिकल्स हटाते हैं। डॉक्टर विलियम कहते है कि ASHRAE (एसी, हीटिंग और रैफ्रिजरेटिंग इंजीनियर्स की प्रोफेशनल सोसाइटी) कोरोनावायरस हटाने के लिए MERV 13 या इससे ऊपर के फिल्टर की सलाह देती हैं। उन्होंने बताया कि एक HEPA फिल्टर हाई रेटेड MERV फिल्टर से ज्यादा असरदार होता है।
  • कई सेंट्रल एयर सिस्टम्स खास फिल्टर लगाने के लिए तैयार किए जाते हैं, लेकिन सभी ज्यादा एडवांस फिल्टर को नहीं संभाल सकते। मैकेनिकल इंजीनियर वेड एच कॉनलैन कहते हैं कि कम रेटिंग वाले फिल्टर भी मददगार हो सकते हैं। विंडो यूनिट्स कंफर्ट के लिए तैयार की जाती हैं, न की हेल्थ के लिए। इसमें फिल्टर को लेकर भी लिमिटेशन होती हैं।
  • डॉक्टर विलियम के अनुसार, जो लोग अफोर्ड कर सकते हैं उनके लिए HEPA अच्छा ऑप्शन हो सकता है। इनमें से कुछ बड़ी जगहों के लिए डिजाइन किए जाते हैं।

अगर रूम में कोई अच्छा स्पॉट नहीं है तो?
(मास्क पहनें, दूरी बनाकर रखें और जितना जल्दी हो उस जगह से निकल जाएं।)

  • नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ स्टैंडर्ड्स एंड टेक्नोलॉजी के चीफ एंड्रयु पर्सिली कहते हैं कि एक्सपर्ट्स भी कम जोखिम वाली जगह नहीं खोज पाते हैं। यह एयरफ्लो के पैटर्न और कहां से एयरोसोल निकले हैं इस बात पर निर्भर करता है। कमरे में ऐसे इलाके हो सकते हैं जो दूसरी जगहों की तुलना में ज्यादा खतरनाक हो सकते हैं। इसका अनुमान लगाना कठिन है।”
  • इसके अलावा इस बात का पता लगाना भी मुश्किल है कि एक जगह पर कितने लोग पर्याप्त होते हैं। आखिरकार सभी को संक्रमित करने के लिए एक मरीज भी काफी होता है।
  • डॉक्टर मिलर के अनुसार, अगर आपके पास कार्बन डाय ऑक्साइड डिटेक्टर है तो आप पहले टीबी के फैलने को रोकने में इस्तेमाल की गई तकनीक का उपयोग कर सकते हैं। अगर CO2 स्तर प्रति 1 मिलियन पर एक हजार पार्ट्स से ज्यादा है तो रूम में लोगों की संख्या को कम करना और बाहर की हवा को बढ़ाना अक्लमंदी होगी।

0

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *