आज से आपको डेट और इक्विटी में निवेश के तीन विकल्प मिल रहे हैं, समझिए इसमें से कौन सा ऑप्शन आपके इन्वेस्टमेंट के लिए बेहतर होगा

  • लंबी अवधि और शॉर्ट टर्म दोनों में निवेश आप कर सकते हैं
  • सुरक्षित और रिस्क दोनों तरह का विकल्प आपको मिल रहा है

दैनिक भास्कर

Jul 13, 2020, 03:10 PM IST

मुंबई. सोमवार को जहां बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज के सूचकांक ने सुबह 37,000 के आंकड़े को पार किया, वहीं तीन अलग-अलग तरह के निवेश के विकल्प आपके लिए शुरू हो गए। हालांकि सोमवार को बाजार में तेजी रही और रिलायंस इंडस्ट्रीज सहित कई शेयरों ने अच्छी तेजी दिखाई। हम आपको बता रहे हैं वे कौन से तीन निवेश के विकल्प आज से शुरू हो रहे हैं जिसमें आप पैसा लगा सकते हैं।

निवेश के लिए आप फाइनेंशियल एडवाइजर से सलाह लीजिए। यहां पर दी गई सूचना आपकी जानकारी के लिए केवल है। यह जानकारी निवेश की सलाह नहीं देती है।

मुझे निवेश के तीन विकल्प कौन-कौन से मिल रहे हैं? और कब से शुरू होगा?

आपको तीन विकल्प में से एक आईपीओ, एक एफपीओ और तीसरा ईटीएफ है। रोसारी बायोटेक का आईपीओ 13 जुलाई को खुला है और 15 को बंद होगा। भारत बांड ईटीएफ 14 जुलाई से खुलेगा और 16 जुलाई को बंद होगा। यस बैंक का एफपीओ 15 से खुलेगा और 17 को बंद होगा।

इनमें निवेश कैसे और कितने मूल्य पर किया जा सकता है?

इसमें आप निवेश ऑन लाइन या फिर अपने डीमैट ब्रोकर से कह कर करवा सकते हैं। रोसारी बायोटेक के आईपीओ में आप 423 से 425 रुपए के मूल्य पर निवेश कर सकते हैं। यस बैंक के एफपीओ में 12-13 रुपए में निवेश कर सकते हैं। भारत बांड ईटीएफ में आप 1,000 रुपए कम से कम निवेश कर सकते हैं।

कंपनियों की विशेषता क्या है और किस सेक्टर में हैं?

रोसारी बायोटेक स्पेशियालिटी केमिकल बनाती है। यह 500 करोड़ रुपए जुटाने के लिए बाजार में उतरी है। भारत बॉन्ड एक्सचेंज ट्रेडेट फंड (ETF) का दूसरा चरण है। इसका प्रबंधन एडलवाइस म्यूचुअल फंड करेगा। लेकिन यह सरकार का ईटीएफ है और इसमें निजी तथा सरकारी क्षेत्र की अच्छी कंपनियों का समावेश होगा। इन्हीं कंपनियों का शेयर इसके जरिए बिकेगा।

इस बार इसमें 2 नए ईटीएफ शामिल हैं जो 2025 और 2031 में मैच्योर होंगे। इसके जरिए 14 हजार करोड़ रुपए जुटाने का लक्ष्य है। यस बैंक एफपीओ के जरिए 15 हजार करोड़ जुटाएगा। यस बैंक देश में निजी क्षेत्र का चौथा सबसे बड़ा बैंक है।

क्या मेरे उद्देश्य अलग -अलग हों तो इसमें निवेश किया जा सकता है?

विश्लेषकों के मुताबिक ये तीनों निवेश विकल्प काफी आकर्षक नजर आ रहे हैं लेकिन यह अलग-अलग निवेशकों के लिए है और इनको एक ही कैटेगरी में नहीं रखा जा सकता। अगर कोई लंबे अवधि के नजरिए से निवेश करना चाहता है तो वेल्थ क्रिएशन और पैसे के सुरक्षा के लिहाज से भारत बॉन्ड ईटीएफ (Bharat Bond ETF),  रोसारी बायोटेक के आईपीओ (Rossari Biotech IPO) बेहतर हैं।

विश्लेषक कहते हैं कि लंबे नजरिए से भारत बॉन्ड ईटीएफ में निवेश करें। इसकी वजह यह है कि हम इसके रिटर्न का अंदाजा लगा सकते हैं और इसके पहले जारी भारत बॉन्ड ने 14 से 18 फीसदी की रेंज में अच्छा वार्षिक रिटर्न दिया है।

इनकी क्रेडिट रेटिंग कैसी है?

इस बॉन्ड की क्रेडिट रेटिंग भी बहुत अच्छी है और यह पोर्टफोलियो डायवर्सिफिकेशन का बहुत अच्छा संसाधन है।रोसारी बायोटेक का प्रोडक्ट पोर्टफोलियो काफी मजबूत है और कंपनी काफी अच्छी तरह डायवर्सिफाइड है लेकिन कंपनी का वैल्यूएशन काफी महंगा दिख रहा है। यस बैंक के एफपीओ से उसके वर्तमान शेयर धारकों को अपनी होल्डिंग घटाने का मौका मिलेगा।

सबसे बेहतर और सबसे जल्दी किसमें रिटर्न मिलेगा?

इसके लिए आप फिर आईपीओ को चुन सकते हैं। क्योंकि यह जब लिस्ट होगा तो इसमें अच्छी बढ़त हो सकती है। भारत बांड ईटीएफ में आपको थोड़ा इंतजार करना होगा। जबकि यस बैंक में अभी एनपीए की समस्या बनी रहेगी इसलिए उसमें भी लंबे समय के लिए आप निवेश कर सकते हैं। भारत बांड को डाइवर्सिफिकेशन के लिए आप निवेश कर सकते हैं।

सरकार के भारत बॉन्ड ईटीएफ की क्या विशेषता है?
भारत बॉन्ड ईटीएफ में पीएसयू कंपनियों के बॉन्ड शामिल हैं जिनको सरकार का समर्थन हासिल है। जिसके चलते इसमें किया गया निवेश काफी सुरक्षित है। यह कैपिटल प्रोटेक्शन उपलब्ध कराता है और यह किसी ऐसे निवेशक के लिए अच्छा नियमित आय का साधन है जो  लंबी अवधि के नजरिए से निवेश करना चाहता है।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *